भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन करता है / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन करता है
देखती रहूँ तुम्हें
सुनूँ खूब देर तक
और सो जाऊँ सुनते-सुनते

बूँद की तरह
घुल जाऊँ
तुम्हारी प्यास के समुद्र में

मन करता है
छूकर तुम्हें
बिखर जाऊँ चाँदनी की तरह
तुम्हारे वजूद के आसमान में

भर लूँ तुम्हें
अपनी श्वास के गेह में
आत्मा के शिल्प की तरह
रच लूँ तुम्हें अपनी देह में

चलो
दुनिया से दूर कहीं बैठें
और टकटकी लगाकर
ताकें एक-दूसरे को

मन करता है
लिख दूँ तुम्हें
सारी लिपियों
सारी भाषाओं में
टाँक दूँ नाम तुम्हारा
चाँद के बिल्कुल बीचों-बीच ,

क्या करूँ मैं इस मन का ?
जो हर लम्हा
तुम्हारी सुगंध से
भीना रहता है।