भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन फिर से तुलसी बन जाओ / छाया त्रिपाठी ओझा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन फिर से तुलसी बन जाओ
झूठा जग झूठी सब बातें
झूठी हैं ये झिलमिल रातें !
खोज रहे होकर क्यों व्याकुल
इनमें तुम मीठी सौगातें !
कर्म करो ऐसा कुछ बढ़कर
जीवन का अनुपम धन पाओ।
मन फिर से तुलसी बन जाओ।

झूठा प्रेम है झूठी माया
झूठी है ये कंचन काया !
मत भागो तुम इनके पीछे
ये सब तो हैं दुखती छाया !
नये पाठ की छटा बिखेरो
एक नया सुर ताल सुनाओ।
मन फिर से तुलसी बन जाओ।

बहुत रो चुके दुख का रोना
अश्रु नहीं अब अपने खोना !
लड़कर नित्य स्वयं से सीखो
खुशियों के बीजों को बोना !
कुछ अपने कुछ औरों के हित
एक नया इतिहास बनाओ।
मन फिर से तुलसी बन जाओ।