भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन बँधते ही मरा काठ तन धीरे-धीरे नष्ट हुआ / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन बँधते ही मरा काठ तन धीरे-धीरे नष्ट हुआ।
साँपों के पहरे में चंदन धीरे-धीरे नष्ट हुआ।

बादल तो अब भी घिरते हैं बारिश अब भी होती है
अम्मा क्यों कहती है सावन धीरे-धीरे नष्ट हुआ।

ठूंठ समय है प्रभुताओं की उंगलियाँ अब नहीं रहीं
उठ जाने वाला गोवर्धन धीरे-धीरे नष्ट हुआ।

समय मिला इतना कि सुरक्षित निकल गया तक्षक वन से
धीरे-धीरे धुआँ उठा वन धीरे-धीरे नष्ट हुआ।

डिनर सेट के बिखरे टुकड़ों के बरक्स इसको देखें
पीतल का इकलौता बर्तन धीरे-धीरे नष्ट हुआ।

अच्छी बातें बुरे इलाकों में दिखती तो रहती हैं
तुम कहते थे हर अच्छापन धीरे-धीरे नष्ट हुआ।

नाच सीखते रहते तो आँगन भी सीधा हो जाता
छोड़ गया टेढ़ापन, आँगन धीरे-धीरे नष्ट हुआ।