भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन है मन का सकल बखेरा / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन है, मन का सकल बखेरा |
मन लग जाये भक्ति करन में,सोचूं साँझ सवेरा ||
मन माने माने ना कहना, पागल मन के संग में रहना |
है यह संकट विकट मन ही का, मन है नार भगेरा ||
लागे नहीं भजन में मन है, मन ना लागे बुढ्ढा तन है |
उमर बीते मन के कारन, भोगे भोग घनेरा ||
शिवदीन गया संतन के द्वारे,मन आगे ना जोर चला रे |
उरझी डोरी सुरझे कैसे, यंत्र मन्त्र सब हेरा ||
मन का मता पता ना पाया, बार-बार मन ने भटकाया |
मिटे कवन विधि आना जाना, चौरासी का फेरा ||