भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ममनूँ ही रहा उस बुत-ए-काफ़िर की जफ़ा का / 'रासिख़' अज़ीमाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ममनूँ ही रहा उस बुत-ए-काफ़िर की जफ़ा का
शिकवा न किया दिल ने कभू शुक्र ख़ुदा का

आज़ा के तनासुब का न वारफ़्ता हो इतना
आँखें हैं तो रह हैरती अंदाज़ आ अदा का

हर दम है हदफ़़ नावक-ए-बेदाद का तेरी
पत्थर का कलेजा है मगर अहल-ए-वफ़ा का

ताबूत ही देखा न मिरा आँख उठा कर
क्या शर्म है कुश्ता हूँ मैं उस शर्म हो हया का

पास उस के बना दीजो मिरी आँख भी नक़्क़ाश
गर खींचे है तू नक़्श-ए-रूख़ उस हूर-लक़ा का

किस तरह मैं अब सर पे भला ख़ाक न डालूँ
देखूँ हूँ निशाँ दर पे तिरी सद कफ़-ए-पा का

किस बे-कसी की मर्ग है ‘रासिख़’ का भी मरना
नाश उस की पे कोई न हुआ महव अज़ा का