भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मरुस्थल में हरेपन की झलक है / श्याम कश्यप बेचैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मरुस्थल में हरेपन की झलक है
मेरे भीतर में जंगल अब तलक है

पटक कर पाँव कब का जा चुका वह
अभी तक दिल की धरती में दलक है

चलेगी किस तरह लफ़्ज़ों की कश्ती
किसी सूखी नदी जैसा हलक़ है

चिता को देख कर रोता ना समझो
धुएँ से हो गई गीली पलक है

जो है हलचल मचाने पर उतारू
किसी अधजल सुराही की छलक है