भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मर्दे-दाना / रसूल हम्ज़ातव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मर्दे-दाना[1] पी के अहमक़ से कभी बदतर हुआ
और कभी बर‍अक्स[2] भी इसके हुआ, अक्सर हुआ

शब्दार्थ
  1. समझदार मनुष्य
  2. विपरीत