भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महलोॅ में रहै वाला बड़का टा लोग तोहें / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

महलोॅ में रहै वाला बड़का टा लोग तोहें
झोपड़ी में रहैवाला हमरा की जानभौ।
हीरा-मोती गिनैवाला सोर सूप पियै वाला
माडो लेली तरसै छी कहो केना मानभौ।
नामो के दीवार तोरो सोना के पहाड़ तोरो
छोटो छिनो जान लेली कहो केना कानभौ।
हमरो चुबै छै घाम मिलै छै तोरा जे दाम
रामराज कथी लेली कहोॅ तोहें लानभौ॥