भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महामहिम सावधान / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ध्वंस स्तूपों में भी
बची रह जाती हैं सभ्यताएँ

सभ्यताएँ हर हाल में
बचा ली जाती हैं
महामहिम सावधान !
 
महामहिम सही फरमाते हैं
कि आप दुनिया को
सभ्य देखना चाहते हैं

लेकिन बेबीलोन से आपको
बहुत कुछ सीखना है
बसरा के ख़ूबसूरत गुलाब
जलने के बाद भी वहाँ
ख़ुशबूएँ ज़िन्दा हैं ।

आपकी बिल्ली का नाम
इंडिया है
मैं आपत्ति दर्ज़ करना चाहता हूँ
इंडिया से भी आपको
बहुत कुछ सीखना होगा ।

श्वेत-भवन में आपकी कुर्सी पर
कोई लोकप्रिय राष्ट्रनायक
अपनी सहायिका के शरीर-विन्यास को देख
स्खलित होता है
तब इंडिया में किशोर
फेफड़ों की हवा कंडोम में भर
गुब्बारे उड़ा रहे होते हैं

किशोरियां आज भी इंडिया में
देवलिंग पूजती हैं
उस पर जल बेलपत्र चढ़ाती हैं ।

आपने इंडिया के उस अभिमानी ऋषि
विश्वामित्र की कथा सुनी होगी
अप्सराओं के नृत्य उसे
स्खलित नहीं कर पाते थे

स्वर्ग को नीचे उतारने का
उस ज़िद्दी ऋषि का एजेंडा
इंडिया में अधूरा पड़ा है
महामहिम सावधान ।