भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महिने में पंद्रह इतवार / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

महिने में कम से कम आएं
                    हे भगवन पंद्रह इतवार |

                    पता नहीं क्यों सात दिनों में ,
                    बस इतवार एक आता |
                    छ: दिन का बहुमूल्य समय तो ,
                    शाळा में ही धुल| जाता |
                    ऐसे में कैसे चल पाये ,
                   खेल कूद का कारोबार |

                   शाळा एक दिवस लग जाए ,
                   दिवस दूसरे छुट्टी हो|
                   रोज रोज पढ़ने लिखने से,
                   कैसे भी हो कुट्टी हो |
                   एक -एक दिन छोड़ हमेशा ,
                   हम छुट्टी से हों दो चार |

                   पढ़ना लिखना बहुत जरूरी ,
                   बात सभी ने मानी है |
                   खेल कूद भी है आवश्यक ,
                   कहते ज्ञानी ध्यानी हैं |
                   खेल कूद से ही तो बनता ,
                   सच में स्वस्थ सुखी परिवार |

                  पढ़ें एक दिन ,खेल एक दिन,
                 यह विचार कितना अच्छा ,
                 इस विचार से झूम उठेगा ,
                 इस दुनियां का हर बच्चा |
                 बच्चों का भी कहना मानों ,
                 बच्चों का ही तो संसार |