भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महुए टपके / राम शरण शर्मा 'मुंशी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जामुन के पेड़ों पर
उतरी घटा —
फ़रेन्दे मह-मह महके !

                अल्हड़ पुरवैया की
                बाँकी छटा —
                कि झोंके बहके-बहके !

झरझर-झरझर झड़ी —
टपाटप
महुए महके !

                ऐसी अ...र...र...र... पड़ी —
                फफोले
                फूले-पटके !