भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मऽ कोका आसरया सी रहूँ रे दादा / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मऽ कोका आसरया सी रहूँ रे दादा
मऽ कोखऽ आब दादा कहूँ रे मऽरो दादा
तू काहे हमसी रूठ खऽ चल्यो रे मऽरो दादा