भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मां त लालण जा पंजड़ा गायां / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मां त लालण जा पंजड़ा गायां
कंहिं खे हाल अंदर जो ॿुधायां
जोड़े हथड़ा ॿधी थी ॿाॾायां
मां त लालण जा...

1.
आहे लालण दया वारो कंदो पंहिंजी ॿाझ ॿाझारो
दांहूं मुंहिजूं ॿुधण वारो, कंदो अची मूंखे त सोभारो
मां त पांधि ॻिचीअ ॻल पायां
मां त लालण जा...

2.
चालीहे वारो साणी थींदो, कष्ट मुंहिंजा अची कटींदो
ॾोह मुंहिंजा कीन ॾिसंदो, लॼ पति मुंहिंजी अची रखंदो
ॾाढीअ सिक सां पलव थी पायां
मां त लालण जा...

3.
दूलह दिलबरु शाहनि जो शाहु, आहे त हीणनि संदो हमराहु
पलव पाए ऐं अखो पायां, पल्ले वारे खे पेई ॿाॾायां
‘निमाणी’ मां त वर्खा गुलनि जी वसायां
मां त लालण जा...