भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

माई तुम्हरे श्याम कौन गुण कारे / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

माई तुम्हरे श्याम कौन गुण कारे,
कौन गुण कारे। माई तुम्हरे श्याम...
गोरे नन्द बाबा, सो गोरी यशोदा
सो गोरे ही हैं, बलराम तुम्हारे,
बलराम तुम्हारे। माई तुम्हरे श्याम...
कारे जिन कहो ग्वालन
कारे ही हैं जग के उजियारे,
मोरी आँख के तारे। माई तुम्हरे श्याम...
खेलत गेंद गिरी जमुना में
सो नागनाथ जैसे हो गये कारे,
एही गुन कारे। माई तुम्हरे श्याम...