भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माई री मैं टोना करिहों / खड़ी बोली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

माई री मैं टोना करिहों मई री मैं टोना करिहों
कागा की चोंच कबूतर के डैना उड़त चिरया की आँख रे/ 2
इन तीनन को सुर्मा करिहों 2 /सुर्मा बनाय पिया की आखिन लगैहों 2
वो ओ तके न पराई नार रे २/----------- माई री मैं टोना करिहों २
कागा की चोंच कबूतर के डैना उड़त चिरैया की आँख रे 2
इन तीनन को ताबीज बनैहों २ /बांधूं बांधूं पिया के हाथ रे 2
बाँधे ताबीज पिया हाथ न हिलैहे२/ वो तो छुवे न पराई नार रे २-------माई री मैं टोना करिहों २
कागा की चोंच कबूतर के डैना उड़त चिरैया की आँख रे 2
 इन तीनन को भसम बनैहों २ लगाऊं पिया के पैर रे २भसम lagay
भसम लगायपिया पैर न चलिहें २ वो तो चढ़े न पराई सेज रे २ माई री मैं टोना करिहों 2