भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मागू मागू वरदान देवी के मदिर भीतर / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मांगूं मांगूं वरदान देवी के मंदिर भीतर।
मांगूं मैं लाल पीली चुड़ियां
सेंदुर भरी मांग देवी के मंदिर भीतर।
मांगूं मैं लाल चुनरिया...
गोटा जड़ी रे किनार
मांगूं मैं पांव महावर मैं पांव महावर
मेहंदी रंगे हाथ।
मांगूं मैं पांव में विछिया...
भरा पूरा परिवार देवी के मंदिर भीतर। मांगूं...