भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माझी उसको मझधार न कह / जानकीवल्लभ शास्त्री

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


रुक गयी नाव जिस ठौर स्वयं, माझी, उसको मझधार न कह !

         कायर जो बैठे आह भरे
         तूफानों की परवाह करे
हाँ, तट तक जो पहुँचा न सका, चाहे तू उसको ज्वार न कह !

         कोई तम को कह भ्रम, सपना
         ढूँढे, आलोक-लोक अपना,
तव सिन्धु पार जाने वाले को, निष्ठुर, तू बेकार न कह !