भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मातम से बचा / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निकल आए हैं --
केंचुआ, घोंघा, बेग-मेंढक
कमरे के कोने में भरा पड़ा बीटल
झींगुर, दीवार पर छिपकली ।

रेंग रहे हैं चारो ओर
पाँवहीन पंखहीन
जंतु-अजंतु ।

उन्ही में न रहते हुए
दरवाज़े के बाहर-भीतर
हो रहा हूँ --

चारों ओर उदारीकरण के मातम से बचा हुआ हूँ ।