भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माता पिता ने धरम डिगा दिया / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माता पिता ने धरम डिगा दिया महाराणा तैं डर कै
पति का परेम भुलावण लाग्यी क्यों धिंगताणा कर कै
अपनी मां के संग थी मीरा पूजा बीच निगाह थी
एक वर पूजण गया मंदिर में बारात सजी संग जा थी
मैं बोली कौण कित जा सै समझ लावण आली मां थी
न्यूं बोली बनड़ा बनड़ी ल्यावे जिसने पति की चाह थी
मैं बोली मेरा पति कौन झट हाथ लगाया गिरधर कै
पति का परेम...
नाम सुणा जब गिरधर जी का आनंद हो गई काया
बीरबानी ने पति बिना अच्छी लागै ना धन माया
उसका परेम ठीक हो जा सै जिस ने ज्यादा परेम बढ़ाया
खुद माता के कहने से मैंने गिरधर पति बनाया
करूं परीति सच्चे दिल तै परेम बीच में भर कै
पति का परेम...