भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माता बाँझबाई बाँझबाई सब कहे हो माता / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

माता बाँझबाई बाँझबाई सब कहे हो माता,
नहीं कहे बाळा की माय हो रनादेव।। वाँजुली।।
माता चार पहेर रात हाऊँ भुई मऽ सूती,
नहीं डसऽ वासुकी नाग हो रनादेव।। वाँजुली।।
माता चार पहेर रात हाऊँ अम्बा-बन सूती,
नहीं टूटी अम्बा की डाळ हो रनादेव।। वाँजुली।।
माता चार पहेर रात हाऊँ रस्ता मऽ सूती,
नहीं आई रेवा पूर हो रनादेव।। वाँजुली।।