भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

माता समुन्दर की झबर सुहाणी लागऽ हो / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

माता समुन्दर की झबर सुहाणी लागऽ हो।
माता झबर झबर रथ हिलोळा लेय,
रत्नाकर अम्बो मौरियो।
माता रथ मऽ सी राणी रनुबाई काई बोलऽ
माता कुणऽ म्हारो आणो लई जाय
माता दूर का अमुक भाई मानवी हो
माता ऊ तुम्हारो आणो लई जाय
माता सुन्दर की झबर सुहाणी लागऽ हो।।