भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मात्र फरक तारतम्य / कणाद महर्षि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


आँधी आयो,
भूकम्प गयो,
प्रलय भयो
-उल्कापात मच्चियो
-परिवर्तन भयो ।

अनि म गम्छु, केही विचार गर्छु
र फेरि बोध गर्दै
व्यक्तमा बोल्छु
-यहाँ भयो के त ?
-उत्तर आरम्भमै भनियो
भन्नेहरुले यसो भने
र लुसुक्क दुलोतिर पसे
अनि फेरि मैले मुख खोलेँ
तिमी! तिमी चाहिँ के भयौ त ?
र पायौ के त ?”
उस्ताको उस्तै
जस्ताकेा तस्तै
मात्र तौर/तरिका, तारतम्य फरक
छैन उत्तर ।