भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मात कहे बात भली सुन सुन्दरी / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब लडकी की विवाह के बाद बिदाई होती है तब सभी महिलाये उसे विदा करते हुए यह सीख देती है।

मात कहे बात भली सुन सुन्दरी,
लक्ष धरी वात न निभाव्जे हो
सयानी कुल न ल्जाव्जे।
ससरा खअपना बाप सम जान्जे,
सासु ख माय सम जान्जे
ओ सयानी...
जेठ का सामन हलू हलू चालजे,
जेठानी का मान ख ब्धावजे
ओ सयानी...
देवर ख अपना भाई सम जान्जे,
देरानी ख सई [सहेली] सम जाणिजे
ओ सयानी ....
नन्द ख अपनी बैन सम जान्जे,
ननदोई जी आया मिज्वान
ओ सयानी....
मात कहे बात भली सुन सुन्दरी,
लक्ष धरी बात न निभाव्जे
वो सयानी कुल न ल्जाव्जे