भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माथे का चांद / वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे माथे के चांद को
चुरा लिया
एक अंधेरी रात ने

मैं ढूंढ़ती उसे

काली रात की पहचान
करूं भी तो कैसे

बस पहचान सकती हूं
अपना चांद

रह गया एक निशान
माथे पर
जहां चमका करता था
चांद