भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मानुष देही / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तूं कर न मिठा अभिमान-मिली थी सुहिणी ज़िंदगी वरी
विसारे वेहु न वाइदा-कर भॼन का घड़ी

सुबह जो गुलु टिड़ियो हो चमन में
कोमायल सो ॾिठुमि शाम आई
केॾो नाजु करियूं था बदन ते
रहे साॻी न सूंहं सफ़ाई।
हीअ दुनिया अथेई धोखे भरी
कर सतसंग का हिकड़ी घड़ी

तूं दिलगीर थीउ त दीवाना
नको विश्वासु लाहि को साईंअ मां
छो थो ॿाहिर तूं भिटिकीं प्यारा
‘निमाणी’ लहु ॻोल्हे लहु प्रीतमु अंदर मां
खोले ॾिसु तूं त दिलि जी दरी
कर सत्संग तू हिकड़ी घड़ी।