भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मामा, पहिरीं मूखें सुधि कान पेई / श्रीकान्त 'सदफ़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मामा, पहिरीं मूंखे सुधि कान पेई
शब्द जा भाङा कयमि तॾहिं ॼातुमि
मामा तो में ॿ माउरूं आहिनि
मामा, ज़माना गुज़िरी विया
मूं अंग्रेज़ी अख़बार कान पढ़ी आ
मामा, शहर जो हालु अहवालु बुधाइ
मामा, सुठनि माण्हुनि खे
दुआ सलाम ॾिजांइ
मामा, मुंहिंजो नानो याद अथेई?
चवन्दो हुओ

जेके रत जा कोन थिया
जॻ जा किथां थीन्दा!
मामा, मुंहिंजे सौट खे
पैसनि जी छिक आहे
चवे थो
फ़्लैटु फॿायां पोइ विकिणी छॾियां
पुछे थो
पीउ खां किअं जिंदु छॾायां?
मामा, मुंहिंजो नानो
मुंहिंजे चाचे जे वेस में
वापस अची वियो
मामा, फ़्लैटु त मूं खे बि फॿाइणो आहे
छा करियां? भाउ-भाॼाईअ खे
हकाले कढां?
मामा, हलु त मंदर हलूं
चइनि ॾींहंनि खां भॻवान
असांजो दर्शनु कोन कयो आहे
मामा, मूं खे निंड नथी अचे
मूं खे लोली ॾेई सुम्हारे छॾि!