भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माय अंगिका / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केतकी, परास, गुलाब
रातरानी, चंपा, चमेली।
जुही, टिटभाटिनी रंजनीगंधा
सब्भेॅ शोभै छै अंग रोॅ ऐंगना मेॅ।
देखी मने-मन गुनगुनाय छी,
आपनोॅ माय अंगिका के गीत।
अंगिका के नावोॅ पेॅ बैठी केॅ,
पतवार चलाय-छी।
मांटी लोरोॅ सेॅ सानै छी,
अन्हर सेॅ कच्छ कस्सी लड़ै छी।
आरो बोलै-हे भगवान! पार लगाबोॅ
माय अंगिका के नैया।