भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

माय चली कैलाश को / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

     माय चली कैलाश को,
     आरे कोई लेवो रे मनाय
(१) पयलो संदेशो उनकी छोरी न क दिजो
     आरे दूजा गाँव का लोग....
     माय चली...

(२) तिसरो संदेशो उनका छोरा न क दिजो
     चवथो साजन को लोग....
     माय चली...
(३) हरा निला वास को डोलो सजावो
     उड़े अबिर गुलाल....
     माय चली...

(४) कुटुंब कबिलो सब रोई रोई मनाव
     आरे मुख मोड़ी चली माय....
     माय चली...

(५) बारह बोरी की उनकी पंगत देवो
     आरे उनकी होय जय जयकार
     माय चली...