भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माय तोरा हँटो गे कोसिका / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

माय तोरा हँटो गे कोसिका
बाप तोरा बोधो से मति जाह सौरा असनान ।
अंगना में आगे कोसिका कुइयाँ खुनाय देबौ
नित उठि करिहे असनान ।
हँटलो ने माने कोसी बोधलो ने मानेµ
वलि भेलै कोसिका सोरा असनान ।
जाहि घाट आगे कोसिकाµ
करै गो असनानताहि घाट अहिरा पड़रू नमावै ।
घाट छोड़ू बाट छोड़ू पूत अहिरा
तिरिया जानि हम करब असनान
पालट के नूआ अहीरा घर ही बिसरलौ
तिरिया जाति हम करब असनान ।
हमरो चदरियाकोसिका पहिरि करू हे असनान
अगिया लगेवौ अहिरा तोहरो चदरिया
बजर खसैबो तोहर चदरिया
तीतले भीजले जेवै अपन घर दुआर ।