भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मार येक खैड़ै / धनेश कोठारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तिन बोट बि दियाली

तिन नेता बि बणैयाली

अब तेरि नि सुणदु

त मार येक खैड़ै

 

ब्याळी वु हात ज्वड़दु छौ

आज ताकतवर ह्वेगे

अब त्वै धमकौंणु च

त मार येक खैड़ै

 

वेंन ही त बोलि छौ

तेरू हळ्ळु गर्ररू ब्वकलु

तु निशफिकरां रै

अब नि सकदु

त मार येक खैड़ै

 

तेरि जातौ छौ थातौ छौ

गंगाजल मा वेन

सौं घैंट्यै छा

अब अगर नातु तोड़दु

त मार येक खैड़ै