भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मालिनि तोरी चाल सालैइ करेजा मोरे / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मालिनि तोरी चाल सालैइ करेजा मोरे
एक तौ नयन रतनारे नितै कजरारे
कजरिउ मारैइ कटार
प्यारे महार मन लैइ गे
मालिनि तोरी चाल सालइ करेजा मोरे
एक तौ नजर गई बाग मा
कली खोसे कान मा बीरा दाबे गाल मा
बतीसी रची दांत मां
मालिनि तेारी चाल सालैइ करेजा मोरे