भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मा रो परस / अजय कुमार सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हारै गांव सूं
पांच सौ कोस आंतरै
किणी म्हानै
धोरां माथै
ले जाय र
ताती रेत में
लिटाय'र
कै दियो होवै
कै देख
कित्ती ठंडी है
आ जाग्यां।
साच्याणी
म्हानै बा रेत
भोत ठंडी लागै
अर लिट्यो रेवूं
उण माथै सगळै दिन
जाणै माचै माथै
बिछाय दी होवै
किणी नूंई चादर
पून लागै
मा रो परस।