भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिनखपणो / विनोद कुमार यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कदै ई
लोग जींवता
आन-बान-स्यान सारू
अब चावै
ऑनर किलिंग
जिण सूं बचै
मन रो मान।

कदै ई मानता
देही अर जीव
देन है परमेसर री
अब कानून बतावै
देही अर जीव रो मालक
माणस खुद है
जीवै तो जीवै
नीं जीवै तो
नीं जीवै !

कदैई मानता
जोड़ा बणावै परमेसर
मायत तो बिचोलिया है
अब कोनीं फोड़ो
खुद बणावै
जोड़ा जोड़ो !

सोचूं
अब कांई काम री
बै किताबां
जकी रचीजी
मिनखपणो रचणसारू !