भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिया किलो ज्वारी जा डाई बारी किलो ज्वारी मारे / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मिया किलो ज्वारी जा डाई बारी किलो ज्वारी मारे
मिया किलो ज्वारी जा डाई बारी किलो ज्वारी मारे
गूड़ होय तो माखी झूमे गूड़ नहीं तो माखी उड़े
गूड़ होय तो माखी झूमे गूड़ नहीं तो माखी उड़े
अपना डाई जीव का प्यारा दूसरा डाई बात का प्यारा
अपना डाई जीव का प्यारा दूसरा डाई बात का प्यारा

स्रोत व्यक्ति - प्यारी बाई, ग्राम - मातापुर