भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिरी दुआओं की सब नरमगी तमाम हुई / याक़ूब यावर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिरी दुआओं की सब नरमगी तमाम हुई
सहर तो हो न सकी और फिर से शाम हुई

खुला जो मुझ्ा पे सितम-गाह-ए-वक्त का मंजर
तो मुझ्ा पे ऐश-ओ-तरब जैसी शय हराम हुई

मिरे वजूद का सहरा जहाँ में फैल गया
मिरे जुनूँ की नहूसत जमीं के नाम हुई

अभी गिरी मिरी दीवार-ए-जिस्म और अभी
बिसात-ए-दीदा-ओ-दिल सैर-गाह-ए-आम हुई

तू ला-मकाँ में रहे और मैं मकाँ में असीर
ये क्या कि मुझ पे इताअत तिरी हराम हुई