भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिलकें रजऊ बिछुर जिन जाऔ / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिलकें रजऊ बिछुर जिन जाऔ,
पापी प्रान जियाऔ।
जब सें चरचा भई जावे कीं,
टूटन लगों हियाऔ।
अँसुआ चुअत जात नैनन सौं
रजऊ पोंछ लो आऔ।
ईसुर कात तुमाये संगै,
मेरौ भऔ बियाऔ।