भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिलना जुलना आना जाना / उत्कर्ष अग्निहोत्री

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिलना जुलना आना जाना,
दुनिया एक मुसाफिरखाना।

मुझको मिलना ही था उससे,
ढूँढ रहा था कोई बहाना।

सच्चाई को ग़ौर से देखो,
ख़्वाबों से क्या जी बहलाना।

भटके एक मुसाफिर से सब,
पूछ रहे हैं ठौर ठिकाना।

आज बहुत जी भारी भारी,
आया है कुछ याद पुराना।