भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मीठी ईद / शुभा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाँ मैं रहती हूँ
सिवैयाँ बहुत दूर की चीज़ हैं
स्मृति में ही वे नसीब होती हैं कभी
मीठी ईद की तरह

क़साब भी इसी तरह आ बैठा स्मृति में
ईद पर रूठ कर भाग आया था घर से
मैं चाहती थी उसके साथ सिवैयाँ खाना
और ईद पर नए कपड़ों के बारे में बात करना ख़ासकर
नई जीन्स के बारे में

ये नसीब नहीं हुआ
आगे का हाल आप जानते हैं।