भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मी-यौमिल-हिसाब / साजीदा ज़ैदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे बे-रहम हस्ती के ज़याँ-ख़ाने में क्यूँ भेजा गया
क्यूँ हल्क़ा-ए-ज़ंजीर में रख दी गईं बे-ताबियाँ मेरी
हर इक मंज़र मिरी नज़रों का जूया था
फ़रोज़ाँ शाख़-सारों पर हुजूम-ए-रंग-ओ-बू
उड़ता हुआ अब्र-ए-रवाँ
सीमाब-पा मौजें
सबा का रक़्स बे-परवा
शब-ए-महताब का अफ़्सूँ
मह ओ अंजुम के रक़्साँ दाएरे
रू-ए-शफ़क़
ताबाँ उफ़ुक़
दरियाओं की रफ़्तार
शब के जागते असरार
सहरा का मुनव्वर सीन-ए-उर्यां
तिलिस्म-ए-बे-कराँ के ख़्वाब-गूँ साए
मिरी रातों में मिस्ल-ए-बर्क़ लहराए
सितारों की तजल्ली में था हर्फ़ किन का अफ़्साना
बड़ा फ़य्याज़ था फ़ितरत का शाना
कई सहरा मेरे गाम-ए-तमन्ना के शनासाा थे
वो हर्फ़ ओ सौत की वादी
वो ज़ौक़-ए-शेर का जादा
वो इरफ़ाँ के गुरेज़ाँ आस्तानों पर जबीं साई
वो दानिश की पज़ीराई
वो मआनी की घनेरी छाँव में
ज़ेहन-ए-रसा का कश्‍फ़ वो
असरार के पर्दे के पीछे
दिल की महशर का कश्‍फ़ वो
असरार के पर्दे के पीछे
दिल की महशर-ख़ेज़ आवाज़ें
वो ग़म-हा-ए-निहानी से फ़िरोज़ाँ ज़ौक़-ए-बीनाई
वो दामन का हर इक ख़ार-ए-मुग़ीलाँ से उलझना
तूल ओ अर्ज़ दश्‍त ओ दरिया पार कर जाना
वो हर ज़र्रे में धरती की सदा सुनना
वो हर क़तरे के आईने में
नूर हसन मुतलक़ का लरज़ना
दिल नज़र हर्फ़ ओ हुनर का एक सो जाना
तकल्लुम जुस्तुजू रफ़्तार ओ ग़म का मुद्दआ पाना
कोई ईसा नफ़स देता था नाम-ए-जीस्त नज़राना
लरज़ता इल्तिहाब-ए-आगही से था मिरी नज़रों का पैमाना
गुरेज़ाँ साअतों के कारवाँ को किस ने पकड़ा है
नज़र महव-ए-माल-ए-दोश-ओ-फ़र्दा है
कई दीवार ओ सक़फ़ ओ साएबाँ के मुंजमिद चेहरे
कई ऊँची फ़सलें राह में हाइल
कई बे-फ़ैज़ काविश-हा-ए-तन्हाई
कई बे-महरियाँ पैकार बे-मफ़्हूम पर माइल
कई तीरों ने मेरी ख़ेमा-गाह-ए-शौक को छेदा
कई तरकश हुए इस जिस्म पर ख़ाली हुई जाती है रज़्म-ए-ज़िंदगानी मुज़्महिल घाइल

नशात ओ दर्द की वो खोशा-चीनी छोड़ दी हम ने
इनान-ए-हुस्न-ओ-इम्काँ तोड़ दी हम ने
सुकूत-ए-शाम है
बुझने लगे सारे अयाग़-ए-गर्म-रफ़्तारी
शिकस्ता तार-ए-हस्ती की तरह लर्ज़ां हैं
गर्द ओ पेश के सब तार-ए-नज़र
वो साअत आन पहुँची है
निगाह-ए-वापसीं के मुंतजीर हैं टूटते तारे
मुझे शायद हिमााला की फल़क-पैमाइयाँ आवाज़ देती हैं
मैं अपनी मौत से
इन बर्फ़-ज़ारों की दरख़शिंदा मअय्यत में मिलूँगी
तोडुँगी हल्का-ए-ज़ंजीर-ए-महजूरी