भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुँह-अँधेरे जागता हूँ / इवान बूनिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: इवान बूनिन  » संग्रह: चमकदार आसमानी आभा
»  मुँह-अँधेरे जागता हूँ

मुँह-अँधेरे जागता हूँ
खिड़की हिमकणों से ढकी है
उससे बाहर झाँकता हूँ
हिम‍अंधड़ की झड़ी है
दूर दिख रही साँवली छाया
यह इसाकोव गिरजा है
रंग सुनहरा उसका मुझे भाया
मन में अमन सिरजा है

ठंडा है, बर्फ़ीला है
सुबह का यह धुंधलका
कोहरे में जो सलीब छिपा है
धुंध में वह भी झलका
काँच से सटे हैं कबूतर
लगे उनको यह मरम है
खिड़की के क़रीब तापमान
शायद थोड़ा-सा गरम है

मेरे लिए नया है यह सब
कहवे की ख़ुशबू, फ़ानूस, रोशनी
कालीन गुदगुदा
कमरा यह आरामदेह गज़ब
और हिमझड़ी से भीगा अख़बार
मन पर छाई है एक ख़ुशी अजब

(17 जनवरी 1915, पितेरबुर्ग)

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : अनिल जनविजय