भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुंशीजी / विनोद सारस्वत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

च्यार बिलांत रा मुंशीजी, डीगा-डीगा पग धरै।
छव फुट री घर धिराणी, रोज मसखरी करै।।

दो मुठी काया सगळी तारा तोड़ण री बात करै।
डीगी-डीगी गपां सागै,माडणी बेसवार फिरै।।

खा-खा माल मोफत रो, पाणी बिना चळु करै।
ओड आवै खंधेड़ा हेटै, तो अे भी की हुंकार भरै।।

कर-कर काळा कागद्,धन माया घण भेळी करी।
राज रै खजानै में रैयौ सीर, साख सरबाळै सरी।।

पईसा यांरो माई-बाप पईसो ही दीन-ईमान है।
रूपियां री ताकड़ी में तोलै, ओ ही घण गुमान है।।

उमर मुसाण पूगै जिŸाी, पण हाल घोडे असवार है।
पुरस्कार बगी पाळा टुरज्या वै अेकला ही मिसाल है।।

बै हरैक री काण-कासर काढ़ण, दिन-रात ताता रैवे।
खुद नैं समझै टणकासिंघ दूजा नैं बिसरांवता रैवै।।

धन-माया में गैला हुय, राम नांव कदैई लियो कोनी।
जमराज लेवैला म्यांनौ, जठै कूड़ी गप्पां चालैला कोनी।।