भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुंहिंजी ॿेड़ी पार लॻाइ-मुंहिंजा झूलण शाह / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुंहिंजी ॿेड़ी पार लॻाइ-मुंहिंजा झूलण शाह
मूंखे आफ़त खां त बचाइ-मुंहिंजा झूलण शाह
मां आयसि तुंहिंजे द्वार-मुंहिंजा झूलण शाह
वाह वाह मुंहिंजो झूलण शाह-वाह वाह मुंहिंजो झूलण शाह

चेटी चंड ते झूलण तुंहिंजा मेला खू़ब लॻनि था
भॻत प्यारा तुंहिंजा झूलण, खुशीअ मां ख़ूबु नचनि था
तूं सभ जी पुॼाईं आस मुंहिंजा झूलण शाह
तुंहिंजे दर्शन जी आ प्यास-मुंहिंजा झूलण शाह
तूं आहीं सभु जो आधार-मुंहिंजा झूलण शाह
वाह वाह मुंहिंजा झूलण शाह-वाह वाह मुंहिंजा झूलण शाह

थारुं ॾींहिं तुंहिंजे दर ते-अखा फूला था पायूं
पलव पाए पंजड़ा ॻाएं-खंजरियूं खू़बु वॼायूं
आहीं ज्योतिनि वारो लालु-मुंहिंजा झूलण शाह
तूं रखीं सभनि जो ख़्यालु-मुंहिंजा झूलण शाह
तूं करीं थो मालामाल वाह वाह मुंहिंजा झूलण शाह
वाह वाह मुंहिंजा झूलण शाह।