भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुंहिंजे पाछे जो हिकु हिस्सो / मोहन दीप

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वक़्त जी गाॾीअ जे
दरवाजे़ ते
बीठलु मां ऐं मूं पुठियां
मुंहिंजे वीचारनि जे मथिते टंगियल
ट्यूब लाईट।
उन जी रोशनीअ सबब
ऐं गाॾीअ जी रफ़्तार करे
रेल जे पटनि ते
किरियल डोड़न्दड़ मुंहिंजे पाछे जो हिकु हिस्सो
मां बि पाछो
कंहिं ते को बि तासीर न छॾीन्दड़।