भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुआवज़ा / दीपाली अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 हर सुबह के साथ बेतरतीब जगा
फिर दोपहर और शाम खूब दौड़ाती है
कि मेरी रोज़ की तो तनख्वाह तुम मत पूछो
ये ज़िंदग़ी मुझे मुआवज़े में रात दे जाती है