भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुकाम / प्रयाग शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम कहीं दूर चले जाते हैं । वापस आते फिर ।
और उस जगह का नाम मालूम नहीं ।
आकाश छ्त नहीं है, एक नीली गहराई में
नहीं, वह फैला हुआ नीला है
जिसका कोई शरीर नहीं । 'मुक़ाम सब उसी मुक़ाम
पर पहुँचते हैं'--फ़ैयाज ने कहा । फिर एक थाप है
शरीर से कुछ ले जाती हुई । हम सब डूब जाते
हैं । अनेकॊं बार मैंने अपने को डूबते हुए
देखा है । फिर वह शरीर वही शरीर नहीं रहता ।

फ़ैयाज= तबला वादक फ़ैयाज खाँ