भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुक्तीअ लाइ हिक (या कएं) व्यर्थ कोशिश या कोशिशूं / मोहन दीप

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नामुम्किन जे चकर में
एस्टैब्लिशमेन्ट जूं बेईमानियूं ऐं
हुन जी ॻणप
(ॿिन्ही ॿधल हथनि ऐं
जकिड़ियल पेरनि जूं आङुरियूं ख़तम)
बेईमानियूं = संस्थाऊं
बांदर
हरामी हुआ जिनि इहे संस्थाऊं
शुरू कयूं
धर्म- भॻवानु हर हंधि हाज़िर आहे
ऐं पाप + पुञ जी सुञाणप
जंहिंजा हथ राज क़ानून खां
वधि लंबा!
बचण जो चांसु ई न आहे।
हिते बची विएं त
हुते जवाबु ॾियणो पवंदुइ, मूर्ख!

ॿी आङरि-ॿी संस्था-ॿी बेईमानी।
कॾहिं किथे, कंहिं शादी शुदा
शख़्स विद्रोहु कयो आहे?
विद्रोहु चांहि जे कोप में महदूद।

कंहिं बांदर
(मां पंहिंजनि पूर्वजनि जो नालो ई त
वठी रहियो आहियां)

सिको पैदा करे
बारटर सिस्टिम बन्द करे
जमा ख़ोरीअ जो बुनियादु विधो
ऐं उन गडु ॼाई
ग़रीबी-ऐं मिडिल क्लासु
ॿई - ॿ ज़लील कन्दड़ चमाटूं
मुक्त कीअं थिये केरु
इन लाही-चाढ़ी लाही-चाढ़ीअ
(ऐं महिनो कटण जी लॻातार नौकिरीअ)
मां।

हिकु आङूठो
पुट-धीअ-नुंहं-
पोटनि वगै़रा जो चकरु
बांदर-कुल जो
नाले जारी रखण जो चक्रव्यूह।

हिस्सनि में विरहायल धरती
ही मुंहिंजो ऐं हू मूंखे खपे
हिक ॿी संस्था आहे जा
तोखे-मूंखे गु़लामु करे रही आहे
इम्पोज़ थिलय देश भक्ती
लायल्टी- जा बि
मुक्तीअ में रुकावट ई आहे!

बांदरनि जे स्रापनि खां
मुक्त थियण लाइ
धोॿीअ जो कुत्तो (मां?)
किथे भॼणु चाहे रहियो आहे
लेकिन
पंहिंजियुनि सुभावीक घुरिजुनि लाइ बि
इहे स्राप लाज़िमी थी विया आहिनि
ऐं मां बेवसि
उन्हनि खे वरदानु सम्झी
क़बूले रहियो आहियां

माणे हींअं बि नथो सघां
ऐं हूंअ बि न।