भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुखड़ी को रंग कनो! / गढ़वाली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सिर धौंपेली[1] लटकाई कनी,
काला सर्प की केंचुली जनौ!
सिन्दूर से भरी माँग कनी,
नथूली मा गड़ी नगीना जनी।
सी आँखी सरमीली कनी,
डाँडू मा खिली बुराँसी जनी।
मुखड़ी को रंग कनो?
बाला सूरज को रंग जनो!
ओंठू का बीच दाँतुड़ी कनी,
गठ्यांई[2] भोत्यों माल जनी!
स्वर मा मिठास कनी?
डाँड्यो वासदी हिलाँस[3] जनी!

शब्दार्थ
  1. चुटिया
  2. गूंथी
  3. पक्षी