भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुख़्तसर ही सही मयस्सर है / साबिर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुख़्तसर ही सही मयस्सर है
जो भी कुछ है नहीं से बेहतर है

दिन-दहाड़े गुनाह करता हूँ
मो‘तबर हो न जाऊँ ये डर है

मंच पर कामयाब हो कि न हो
मुझ को किरदार अपना अज़्बर है

सब को पथरा दिया पलक झपके
हम न कहते थे शोबदा-गर है

ऐन मुमकिन है वो पलट आए
मेरा ईमान मोजज़ों पर है

पहले मौसम पे तबसिरा करना
फिर वो कहना जो दिल के अंदर है

सारे मंज़र हसीन लगते हैं
दूरियाँ कम न हों तो बेहतर है

रास्ते बैन कर रहे हैं क्यूँ
क्या मसाफ़त ये इंतिहा पर है

फ़स्ल बोई भी हम ने काटी भी
अब न कहना ज़मीन बंजर है