भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझसे इस प्यास की शिद्दत न सँभाली जाए / समीर परिमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझसे इस प्यास की शिद्दत न सँभाली जाए
सच तो ये है कि मुहब्बत न सँभाली जाए

मेरे चेहरे पे नुमायां है यूँ उसका चेहरा,
आइने से मेरी सूरत न सँभाली जाए

आपके शह्र की मगरूर हवाएँ तौबा
इनसे अब हुस्न की दौलत न सँभाली जाए

मुझको ख्वाबों में ही ऐ यार गुज़र जाने दे
इन निगाहों से हक़ीक़त न सँभाली जाए

बोझ उम्मीदों का शानों पे उठाएँ कबतक
घर की दीवारों से ये छत न सँभाली जाए