भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे क़रार भँवर में उसे किनारे में / साबिर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे क़रार भँवर में उसे किनारे में
सो कितनी दूर तलक बहते एक धारे में

मुझे भी पड़ गई आदत दारोग़-गोई की
वो मुझ से पूछता रहता था मेरे बारे में

ये कारोबार-ए-मोहब्बत है तुम न समझोगे
हुआ है मुझ को बहुत फ़ाएदा ख़सारे में

कहाँ रहा वो गुमान अब कि हैं ज़माना-शनास
उलझ के रह गए ज़ू-मअ’नी इक इशारे में

अजीब बात सही ख़ुद को दाद-ए-फ़न देना
किसी के लम्स की ख़ुश्बू है इस्तिआरे में